dowry deaths

नारीवाद के इस दौर में महिला सशक्तिकरण जमीन पर सफलता से मीलों दूर

Mon, 03/08/2021 - 19:47

कल 8 मार्च यानि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का दिन था. इस मौके पर महिलाओं के बारे में तमाम बातें लिखीं गईं. पूरे दिन को अलग तरीके से सेलिब्रेट किया गया, लेकिन ऐसा लगा कि इस दिन को सिर्फ़ उपलब्धियों के दायरे में देखा गया. महिलाएं कितनी मजबूत हैं और वो कितना आगे बढ़ चुकी हैं. इस पर बातें हुईं और लिखी गईं लेकिन महिलाओं के सामने क्या क्या चुनौतियां हैं, इस पर बहुत ज्यादा फोकस नहीं दिखा. आज के समय में भी महिलाओं के सामने तमाम चुनौतियां हैं. उन्हें पुरुषों के समान तमाम अधिकार मिले हैं, तो आज भी बहुत सी महिलाएं को बेसिक अधिकार भी नहीं मिले हैं.

0 comments