हमलावर के मुस्लिम होने पर आतंकी हमले को 5 गुना ज्यादा ज्यादा कवरेज देती है अमेरिकन मीडिया

Nishant Trivedi's picture
Nishant Trivedi Mon, 07/03/2017 - 19:15 Muslim in USA

अमेरिका में मुस्लिमों के द्वारा किए गए आतंकी हमलों को दूसरों के द्वारा किए गए हमले से 5 गुना ज्यादा मीडिया कवरेज मिलती है। ब्रिटिश अखबार द इंडिपेंडेंट की वेबसाइट में छपे एक अध्ययन में ये बात सामने आई है।
2011 से 2015 के बीच अमेरिका में हुए आतंकी हमलों की मीडिया कवरेज की तुलना करने पर ये बात सामने आई। इस अध्ययन के मुताबिक हमलावर के मुस्लिम होने पर मीडिया कवरेज में 449% की तेजी देखने को मिली। सर्वे के अनुसार मुस्लिमों ने इस दौरान कुल 12.4 हमले किए जबकि मीडिया कवरेज का 41.4% हिस्सा उन्हें दिया गया।
अध्ययन करने वाले रिसर्चरों का कहना है कि ये दिखाता है कि मीडिया अनुपातहीन रूप से मुस्लिमों के प्रति अमेरिकियों में डर पैदा कर रहा है। अध्ययन के लिए रिसर्चरों ने अमेरिकी धरती पर होने वाले हर एक हमले और उसके लिए लिखे गए लेखों की तुलना की है।
रिसर्चरों ने पाया कि बोस्टन मैराथन बांबिंग में 2013 में दो मुस्लिमों ने हमला किया जिसमें 3 लोग मारे गए। इस हमले को अमेरिका मीडिया का पिछले 5 साल का 20% कवरेज दिया गया।
इसके विपरीत विस्कांसिन में 2012 सिख गुरूद्वारे पर हुए हमले जिसमें 6 लोग मारे गए थे। ये हमला वेड माइकल पेज नाम के एक व्यक्ति ने किया था। इस हमले को महज 3.8% कवरेज दी गई।
डियलान रूफ नाम के एक अफ्रिकन अमेरिकन चर्च में साउथ कैरोलिना में हुए हमले में 9 लोग मारे गए। इस हमले में 7.4 प्रतिशत की मीडिया कवरेज दी गई थी। इसी तरह 2014 में फ्रेजियर ग्लेन मिलर नाम के हमले में भी 3 लोग मारे गए थे इस हमले को भी 3.3% का कवरेज दिया गया था।
रिसर्चर्स ने ये रिसर्च अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस दावे पर की जिसमें उसमें उन्होंने कहा था कि अमेरिकन मीडिया मुस्लिमों द्वारा किए गए हमले को पर्याप्त कवरेज नहीं देता है।
डोनाल्ड ट्रंप ने जब 7 मुस्लिमों देशों के नागरिकों की अमेरिका में एंट्री पर बैन लगाया तब अमेरिकन मीडिया और वहां के तमाम बुध्दिजीवियों ने इसका विरोध किया था लेकिन इस अध्ययन के बाद अमेरिकन मीडिया की एक नई तस्वीर ही सामने आती है।
 
 

up
228 users have voted.

Read more

Post new comment

Filtered HTML

  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <blockquote> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Allowed pseudo tags: [tweet:id] [image:fid]
  • Lines and paragraphs break automatically.

Plain text

  • No HTML tags allowed.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Lines and paragraphs break automatically.