दुनिया के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति का उत्तरी जापान स्थित उनके घर में निधन हो गया.वह 113 वर्ष के थे.उनके परिवार ने बताया कि मसाजो नोनाका की मौत रविवार को तड़के ओशोरे स्थित उनके उस सराय में हुई जिसे उनका परिवार चार पीढ़ियों से चला रहा है.यह स्थान जापान के उत्तर में स्थित होकाइदो के मुख्य द्वीप में मौजूद है.उनके परिजनों के मुताबिक उन्होंने नींद में ही अंतिम सांस ली.

उनकी पोती यूको ने क्योडो न्यूज से कहा,"हम अपने बुजुर्ग को खोकर सदमे मे हैं.कल सबकुछ आम दिन दिन की था और वो अपने परिवार के लोगों को बिल्कुल भी तकलीफ दिए बिना चले गए.".25 जुलाई 1905 को जन्में नोनाका एक बड़े परिवार में जन्में थे.नोनाका के 6 भाई थे और बहन थी.उनके पिता एक धर्मशाला चलाते थे.अपने पिता के बाद नोनाका ने इसे संभाला.नोनाका की पोती भी यही धर्मशाला चलाती हैं.

नोनाका ने 1931 में शादी की थी.वो पांच बच्चों के पिता थे.नोनाका के पत्नी और पांच में से 3 बच्चे उनसे पहले ही गुजर चुके हैं.रिटायरमेंट के बाद से नोनाका का टाइम टीवी पर सूमो रेसलिंग देखते और मिठाईयां खाते हुए बीतता था.2018 में 112 साल और 259 दिन पूरे करने पर उन्हें दुनिया के सबसे ज्यादा उम्र के जीवित व्यक्ति का प्रमाण पत्र गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड की तरफ से दिया गया था.