यूक्रेन की राजधानी कीव में रूस के प्रमुख पत्रकार की गोली मार कर हत्या कर दी गई। वो रूस में अपनी हत्या कर दिए जाने के प्रति आशंकित थे और इसी वजह से यूक्रेन की राजधानी में रह रहे थे।

अर्कादी बाबचेन्को, को रूस की सीरिया और यूक्रेन की नीतियों के खिलाफ प्रमुखता से लिखने और उनके खिलाफ आवाज उठाने के लिए जाना जाता था।

यूक्रेन की राष्ट्रीय पुलिस ने शुरुआती जांच में ये शक जताया है की रूस के जासूसी संगठनो का हत्या हाथ हो सकता है।

अर्कादी, अपने अपार्टमेंट से रोजमर्रा की खरीदारी के लिए बाहर जा रहे थे उसी समय पहले से ही घात लगा के बैठे हमलावर ने पीछे से गोली मार दी।

उनकी पत्नी जब वापस आयी तो अर्कादी को घायल अवस्था में पाया। उन्हें तुरंत हॉस्पिटल ले जाया गया पर बचाया नहीं जा सका।

अर्कादी ने अपनी हत्या के कुछ घंटे पहले ही फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी। जिसमे उन्होंने आज ही के दिन हुई एक हेलीकाप्टर दुर्घटना का जिक्र करते हुए लिखा था " जनरल कुलचितसकी ने मुझे हेलीकाप्टर में ये कहते हुए नहीं बैठाया की लोग ज्यादा है, और इस फोटो के दो घंटे बाद ही हेलीकाप्टर दुर्घटना ग्रस्त हो गया और १४ लोग मारे गए। मैं भाग्यशाली था और बच गया, दूसरा जन्म"

इस पोस्ट के कुछ ही घंटो बाद उनकी गोली मार कर हत्या कर दी गयी।

अर्कादी ने पत्रकारिता में आने से पहले रूस की सेना में भी काम किया और चेचन्या में २ साल विद्रोहियों के खिलाफ अभियान में हिस्सा भी लिया। बाद में उन्होंने युद के अपने अनुभव पर एक किताब भी लिखी जो की इंग्लैंड में प्रकाशित हुई।

रूस ने यूक्रेन के आरोपों पर जबाब देते हुए कहा है की यूक्रेन एक पत्रकार की सुरक्षा करने में असफल रहा है और बेबुनियादी आरोप लगा रहा है।