तीन दशक पहले 1989 में अफ़ग़ानिस्तान में लापता हुआ रुसी विमान चालक का पता लग गया है और वो वापस रूस जाना चाहता है।

पूर्व विमान चालक की सुरक्षा को देखते हुए उसकी पहचान गुप्त रखी गयी है। ये हादसा उस समय हुआ था जब सोवियत सेनाएं अफ़ग़ानिस्तान में युद्ध लड़ रही थी। विमान गिराए जाने की खबर के बाद उसे मृत मान लिया गया था।
पायलट के गायब होने के कुछ ही महीने बाद उसकी बेटी का जन्म हुआ जो आज 31 वर्ष की हो गयी है।

रुसी सेना के आर्मी वेटरन्स के एक ग्रुप के अनुसार पायलट पाकिस्तान में मौजूद अफ़ग़ानिस्तान के युद्ध बंदी कैंप में है।

एक रिपोर्ट के अनुसार 1979 से 1989 तक चले इस युद्ध में रूस के 125 विमान को मार गिराया गया था। 1989 में रूस ने जब अपनी सेनाएं वापस बुलाई तो 300 सैनिको का पता नहीं चल सका।
तब से लेकर आज तक 30 गुमशुदा सैनिको का पता लगा है और उनमे से ज़्यदातर अपने देश वापस लौट गए।

हालांकि रूस के सेनेटर ने बताया की कुछ साल पहले अफ़ग़ानिस्तान यात्रा के दौरान वो एक ऐसे रुसी सैनिक से मिले जो ३० साल पहले लापता हो गया था। वो काफी मुश्किल से रशियन भाषा बोल पा रहा था। उसने बताया की वो अब रूस वापस जाना नहीं चाहता क्यों की अफ़ग़ानिस्तान के लोकल लोगो ने ही उसे घायल अवस्था में पाया और उसका इलाज कर उसकी जान बचायी। अफ़ग़ानिस्तान के लोग बहुत ही अच्छे है और वापस लौटने के लिए अब बहुत देर हो चुकी है।

( ये लेख The Gaurdian में छपे अंग्रेजी लेख से लिया गया है)