फ्रांस की मैगजीन चार्ली हेब्दो के पुराने ऑफिस के बाहर मीट काटने वाले चाकू से हमला करने वाले पाकिस्तानी युवक अली हसन के पिता का कहना है की उसे अपने बेटे के इस कृत्य पर गर्व है। पाकिस्तानी ऑनलाइन न्यूज़ वेबसाइट नया पाकिस्तान को दिए एक इंटरव्यू में उसके पिता ने कहा की उसके बेटे ने बहुत अच्छा काम किया है और उसे अपने बेटे के इस काम पर नाज़ है।

फ्रांस की सरकार ने चार्ली हेब्दो के पुराने ऑफिस के बाहर दो लोगों पर हुए इस हमले को इस्लामिक आंतकवाद का कृत्य बताते हुए इसकी कड़ी आलोचना की है।

पिछले हफ्ते प्रेमिएरेस लिगनेस नाम के टीवी प्रॉडक्शन कंपनी के दो कर्मचारियों पर अली हसन नाम के एक पाकिस्तानी युवक ने मीट काटने वाले चाकू से हमला कर दिया था। दोनों कर्मचारी हमले में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। जिस जगह पर पाकिस्तानी युवक ने हमला किया है वंही पर 2015 में चार्ली हेब्दो का ऑफिस हुआ करता था।

2015 में चार्ली हेब्दो पर हुए आतंकी हमले, जिसमे कुल 17 लोग मारे गए थे, के बाद ऑफिस को उस इलाके से हटा कर दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया था। अली हसन ने ने हमले से पहले एक वीडियो जारी कर कहा था की वह मैगज़ीन पर हमला करने जा रहा है।

पाकिस्तान में हमलावर के पिता ने इंटरव्यू में कहा की उसके बेटे ने इस्लाम के लिए ऐसा किया है इसलिए पाकिस्तानी सरकार और दूसरे मुस्लिम देशों को उसे वापस पाकिस्तान लाने में उसकी मदद करनी चाहिए। पिता के अनुसार अली हसन काफी धार्मिक था और दिन में कई बार नमाज पढ़ता था।

पिता ने इंटरव्यू में यह भी कहा की उसके 5 लड़को में 3 बाहर विदेश में रहते है जिसमे 2 लड़के फ्रांस में और 1 इटली में रहता है। उसके अनुसार अली हसन का दिल एक शेर का है।