अल साल्वाडोर के 25 वर्षीय ऑस्कर मार्टिनेज और 23 महीने की बेटी वलेरिया की एक साथ तैरती मिली लाशों ने विश्व समुदाय को झकझोर दिया है। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने फोटो देखने के बाद अफ़सोस न जताया हो।

ये फोटो पत्रकार जूलिया ली डक ने ली है। ऑस्कर मार्टिनेज़ और उनकी बेटी की मौत उस समय हो गयी जब वो मैक्सिको अमेरिका सीमा से अमेरिकी राज्य टेक्सास में गैर कानूनी तरीके से घुसने का प्रयास कर रहे थे। अल साल्वाडोर में फैली गरीबी की वजह से यह परिवार अमेरिका में राजनैतिक शरण लेना चाहता था।

नदी के रास्ते घुसने से पहले वो मैक्सिको में मानवीय आधार वीसा पर एक शरणार्थी कैंप में रह रहे थे। उन्हें ये उम्मीद थी की मैक्सिको में मौजूद अमेरिकी दूतावास से उन्हें शरण मिल जाएगी। पर महीनों इंतज़ार के बाद जब वो दूतावास में अपॉइंटमेंट भी न पा सके तो उन्होंने ये खतरनाक रास्ता चुना।

पत्रकार जूलिया अपनी रिपोर्ट में लिखती है की ऑस्कर अपनी बेटी के साथ एक बार नदी पार गए थे। उसके बाद उन्होंने अपनी बेटी को टेक्सास साइड छोड़ कर अपनी बीवी को लेने के लिए जैसे ही नदी में दोबारा उतरे, पीछे से उनकी बेटी ने पिता को दूर जाता देख नदी में छलांग लगा दी। बेटी को बचाने की कोशिश में पिता और पुत्री दोनों ही नदी की तेज धारा में बह गए।

अगले दिन सुबह जिस अवस्था में दोनों का शव मिला उसे देख कर हर व्यक्ति ऑस्कर और उनकी बेटी के अच्छे जीवन की कल्पना के दुखद अंत पर दुःख व्यक्त कर रहा है