अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप लगातार मुश्किलों में घिरते जा रहे हैं.मेक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाने के मुद्दे पर टकराव के बाद अब अमेरिकी संसद में ट्रंप को झटका लगा है.दरअसल अमेरिकी संसद के निचले सदन यानि हाऊस ऑफ रिप्रेजेन्टेटिव में स्पीकर पद के चुनाव में ट्रंप की पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है.स्पीकर पद के लिए हुए चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी की प्रत्याशी केविन मैकार्थी चुनाव हार गए हैं.इस पद पर डेमोक्रेटिक पार्टी की सांसद नैंसी पेलोसी को चुना गया है.

ट्रंप की मुश्किलें अब इसलिए बढ़ गईं हैं क्योंकि अब उनके खिलाफ महाभियोग की कार्रवाही भी शुरू की जा सकती है.दरअसल ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं की नैंसी पेलोसी स्पीकर बनने के बाद ट्रंप के अब तक कार्यकाल में किए गए कामों की जांच शुरू कर दें.डेमोक्रेटिक पार्टी ने बीते साल हुए मध्यावधि चुनाव में निचले सदन में बहुमत हासिल कर लिया था.जिसके बाद ट्रंप पर महाभियोग की कार्रवाई होना कोई बड़ी बात नहीं रह गई है.

दूसरी तरफ ट्रंप के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक मेक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाने के मुद्दे पर भी निचले सदन ने ट्रंप को झटका दिया.साथ ही सरकार की तरफ से जारी कामबंदी को खत्म करने के लिए भी प्रस्ताव पारित कर दिया है.निचले सदन ने मेक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाने के लिए की जा रही ट्रंप प्रशासन की फंड की मांग को एक प्रस्ताव पारित कर नकार दिया है.बीते 22 दिनों से अमेरिका में जारी कामबंदी को भी निचले सदन ने खत्म करने के लिए प्रस्ताव पास कर दिया है.अगर अमेरिकी संसद के उच्च सदन सीनेट से इस प्रस्ताव को समर्थन मिला तो ये कामबंदी खत्म हो सकती है.

दरअसल निचले सदन और ट्रंप में बॉर्डर पर दीवार बनाने के मुद्दे पर टकराव के बाद से अमेरिका में कामबंदी हो गई थी.इस कामबंदी से करीब 4 लाख कर्मचारियों को छुट्टियों पर जाना पड़ा था.इसकी वजह इन कर्मचारियों के विभागों के पास पैसे का न होना था.आपको बता दें की मेक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाना ट्रंप के चुनावी वादों में शुमार है और बीते दिनों ट्रंप ने अपनी बात को सही साबित करने के लिए बराक ओबामा के घर के चारों ओर बनी दीवार का जिक्र किया था.वो इसके लिए अमेरिकी संसद से प्रभावित कामबंदी के खिलाफ प्रस्ताव को वीटो भी कर सकते हैं.