पड़ोसी देश नेपाल में चीन के बढ़ते हस्तक्षेप के बीच भारत ने नेपाल को अहम मदद दी है.गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत ने नेपाल को 30 बसें और 6 एंबुलेंस उपहार में दी.नेपाल में भारतीय दूतावास के कार्यक्रम में ये मदद दी गई.

नेपाल की राजधानी काठमांडू में शनिवार को भारतीय दूतावास में एक भव्य समारोह आयोजित किया गया. इसमें भारत के राजदूत मंजीव सिंह पुरी ने एम्बुलेंसों और बसों की चाभी नेपाल के समाजिक संगठनों को सौंपीं. राजदूत पुरी ने गोरखा रेजिमेंट के पूर्व सैनिकों के परिजनों को भी नकदी देकर सम्मानित किया. इसके अलावा उन्होंने नेपाल के 53 स्कूलों एवं पुस्तकालयों को किताबें भी उपहार स्वरूप भेंट की हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत 1994 से अब तक नेपाल में स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा सेवाओं में विस्तार के लिए विभिन्न संगठनों को 722 एम्बुलेंस और 142 बसें दे चुका है.इससे पहले पुरी ने दूतावास परिसर में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण किया और भारत के राष्ट्रपति का संदेश पढ़ा. पुरी ने कहा, 'समृद्ध नेपाल, सुखी नेपाल की संकल्पना को साकार करने के लिए भारत अपने पड़ोसी देश की मदद करता रहेगा." समारोह में भारतीय और नेपाली मूल के करीब दो हजार लोग मौजूद थे.