इंग्लैंड में क्रिकेट विश्वकप में दक्षिण अफ्रीका की टीम बुरे हालात से गुजर रही है. टीम अपने शुरूआती 3 मैच गंवा चुकी है इनमें से एक मैच उसने बांग्लांदेश के खिलाफ गंवाया है.टीम के इस बुरे प्रदर्शन के बीच पूर्व क्रिकेटर एबी डीविलियर्स को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. ईएसपीएन क्रिकइंफो की मानें तो डीविलियर्स ने विश्वकप टीम में शामिल होने के लिए टीम प्रबंधन से बात की थी लेकिन टीम प्रबंधन मे डीविलियर्स के प्रस्ताव पर जरा भी गौर तक नहीं किया. हालांकि डीविलियर्स ने इस खबर पर टिप्पणी करने से मना कर दिया और ट्विटर पर एक ट्वीट के जरिए दक्षिण अफ्रीकी टीम को पूरा समर्थन देने की बात कही.

ईएसपीएन के मुताबिक डीविलियर्स ने ये प्रस्ताव तब दिया जब विश्व कप के लिए टीम चुने जाने में महज 24 घंटे बचे थे. डीविलियर्स ने अफ्रीकी कप्तान फाफ डू प्लेसिस, मुख्य कोच ओटिस गिब्सन और चयन समिति के अध्यक्ष लिंडा जोंडी के सामने अपनी बात रखी थी. हालांकि टीम प्रबंधन ने डीविलियर्स के प्रस्ताव को नकार दिया. इसकी दो वजह सामने आई हैं. पहली वजह डीविलियर्स का मार्च 2018 में संन्यास लेना है. दरअसल संन्यास के बाद से डीविलियर्स ने घरेलू क्रिकेट भी नहीं खेला है. ऐसे में वो टीम के सदस्य बनने के लिए जरूरी मानदंडों पर खरे नहीं उतरते. डीविलियर्स का चयन न होने की दूसरी वजह वान डेर डसन जैसे खिलाड़ियों को बताया जा रहा है. जिनका प्रदर्शन बीते समय में बेहतर रहा है. अगर ऐन वक्त पर उन्हें हटाकर डीविलियर्स को लाया जाता तो ये उनके साथ गलत होता. ऐसे में टीम प्रबंधन ने डीविलियर्स के प्रस्ताव को ठुकरा दिया.

दक्षिण अफ्रीका अभी जिस हाल में है उसे देखते हुए टीम के प्रशंसकों को जरूर ही डीविलियर्स की याद आ रही होगी. शुरूआती तीन मैच हारने के बाद अफ्रीकी टीम को अब बाकी बचे अपने सभी मैच जीतने पड़ सकते हैं तभी उसे सेमीफाइनल में जगह मिलेगी. ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी टीम बेहद खास प्रदर्शन करना होगा उसके लिए सेमीफाइनल के रास्ते बंद हो सकते हैं.

अगर एबी डीविलियर्स के बारे में बात करें तो उन्हें आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है और मैन ऑफ 360 डिग्री जैसे नाम भी दिए जाते हैं. उन्होंने अपने वनडे करियर में 53.50 की औसत से 9577 रन बनाए थे. इसमें 31 गेंद पर शतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी शामिल है.