पश्चिम बंगाल में इन दिनों बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में प्रदर्शन कर रही है। बीजेपी के युवा मोर्चा के नवनियुक्त अध्यक्ष तेजश्वी सूर्या इन प्रदर्शनों का नेतृत्व कर रहे है। प्रदर्शनकारियों से जिस तरह से पश्चिम बंगाल की पुलिस निपट रही है उसे देख कर कंही से भी यह नहीं लगता है की ये दृश्य किसी लोकतांत्रिक देश के है।

पुलिस जिस बर्बर तरीके से लाठी से प्रदर्शन में शामिल लोगों को गिरा गिरा कर मार रही है उसे देख कर आपको किसी फिल्म का वो सीन याद आ सकता है जिसमे अंग्रेज प्रदर्शन करने वाले लोगों पर लाठियां बरसाते थे।

इसी क्रम में कल हावड़ा में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर जब पश्चिम बंगाल पुलिस लाठी बरसा रही थी उसी समय बीजेपी नेता की सुरक्षा में लगे एक रिटायर्ड सैनिक बलविंदर सिंह जो की भारतीय सेना की स्पेशल पैरा कमांडो टीम का हिस्सा भी रहे है और साथ ही कारगिल युद्ध में भी भाग लिया था, उन्हें पुलिस ने पकड़ लिया।

बलविंदर को पुलिस ने गिरा कर पीटना शुरू कर दिया इसी दौरान उनकी पगड़ी खुल कर गिर गयी। उसके बाद जिस तरह से पुलिस के जवान उन्हें बाल पकड़ कर घसीटते हुए ले गए उससे सिख समुदाय में काफ रोष है। भारतीय क्रिकेट टीम के हिस्सा रहे और दिग्गज गेंदबाज हरभजन सिंह ने ट्विटर पर रोष जताते हुए ममता बनर्जी से मामले में दखल देने को कहा।पंजाब के मुख्यमंत्री कप्तान अमरिंदर सिंह ने भी मामले पर रोष व्यक्त किया है।

हालांकि बाद में दबाव पड़ने पर पश्चिम बंगाल पुलिस बलविंदर की पगड़ी पहने हुए फोटो शेयर करते हुए लिखा की पगड़ी जानभूझकर नहीं खोली गयी थी बल्कि अनजाने में ऐसा हुआ है।