अपने ही आश्रम द्वारा संचालित लॉ स्कूल की छात्रा के साथ दुष्कर्म के आरोपी और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी से बचने के लिए चिन्मयानंद तरह तरह के दांव खेल रहे थे।

कभी बीमारी का बहाना करके के हॉस्पिटल में भर्ती हो जाना फिर जिला हॉस्पिटल द्वारा मेडिकल कॉलेज रेफर करने पर वापस अपने आश्रम चले जाना और ये कहना की वो आयुर्वेदिक इलाज करेंगे।

हाईकोर्ट द्वारा गठित एसआईटी ने भारी पुलिस बल के साथ आज चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद उन्हें शाहजहांपुर की एक अदालत में पेश किया गया जंहा से उन्हें 14 दिनों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार एसआईटी के पास चिन्मयानंद से जुड़ी हुई लगभग 43 वीडियो क्लिप्स है जिन्हे जाँच के लिए भेजा गया है। हालांकि स्वामी चिन्मयानंद और उनके समर्थको के अनुसार उन्हें ब्लैकमेल किया जा रहा है।

आपको बता दे स्वामी चिन्मयानंद बीजेपी के नेता है और अटल बिहारी बाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री के पद पर थे। शाहजहांपुर में मुमुक्षु आश्रम चलाते है। मुमुक्षु आश्रम इलाके में कई शिक्षण संस्थान चलाता है।