जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों की सख्ती के चलते अपने आतंकी मंसूबो में असफल होने वाले पाकिस्तान ने अब अपनी आतंकी गतिविधियों को भारत में चलाने का नया तरीका खोज निकला है। जम्मू कश्मीर से सटे हुए बॉर्डर एरिया में सुरक्षा बलों की मुस्तैदी और आक्रामक पेट्रोलिंग के कारण पाकिस्तान तमाम कोशिशों के बाद भी आतंकियों की घुसपैठ करने में सफल नहीं हो सका है।

इसलिए पाकिस्तान ने अब पंजाब बॉर्डर से अपनी गतिविधियां बढ़ाई है। खालिस्तानी आतंकियों को मदद देना और पंजाब में आतंकवाद को बढ़ावा देना दोनों ही पाकिस्तान के लिए नये नहीं है। लेकिन इस बार पाकिस्तान ने हथियारों की सप्लाई के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया है।

पाकिस्तान पिछले कुछ समय से पंजाब बॉर्डर पर नीची उड़ान भरने वाले और 5 किलो तक सामान ढोने वाले ड्रोन का इस्तेमाल हथियार गिराने के लिए कर रहा है। बेहद नीची उड़ान के कारण ये ड्रोन राडार की पकड़ में नहीं आ पा रहे है। इन तरह के ड्रोन का इस्तेमाल करके पाकिस्तान सेटेलाइट फोन, एक-47 राइफल और ग्रेनेड सीमा के इस पार पंजाब में निर्जन इलाके में गिरा देता है जिसे आतंकी पहुंच कर उठा लेते है।

पिछले कुछ दिनों में कई खालिस्तानी आतंकी पंजाब से गिरफ्तार किये गए है जिनके पास से ये हथियार बरामद हुए है। पाकिस्तान इन हथियारों का इस्तेमाल पंजाब और कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए करना चाहता है। पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट करके गृह मंत्री अमित शाह को इस मामले में कार्यवाही करने को कहा है।