जम्मू कश्मीर के कुलगाम इलाके में सेना ने करवाई करते हुए हिज़बुल के ३ आतंकियों को मार गिराया है। ये सभी आतंकी पुलिस कांस्टेबल सलीम शाह के अपहरण और हत्या में शामिल थे।सेना और सीरपीफ के जवानो ने मिली ठोस गुप्त जानकारी के आधार पर ये करवाई की।

मारे गए आतंकियों के शव और हथियार सेना ने बरामद कर लिए है। पुलिस ने शक जताया है की मारा गया एक आतंकी पाकिस्तानी हो सकता है। कल सुरक्षा बालो ने जिस जगह से पुलिस कांस्टेबल सलीम शाह की गोलियों से छलनी लाश बरामद की थी आज मारे गए आतंकी वंहा से २ किलोमीटर की दूरी पर छिपे हुए थे।
पुलिस के जवान सलीम शाह का कल आतंकियों ने उस समय अपहरण कर लिया था जब वो अपनी ट्रैनिंग समाप्त करके अपने घर आये हुए थे। आतंकियों ने सोशल मीडिया पर सलीम को प्रताड़ित करने के बाद का एक वीडियो भी जारी किया। बाद में आतंकियों ने सलीम की गोली मार कर हत्या कर दी थी।

पिछले कुछ समय से आतंकियों ने जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानो को निशाना बनाना शुरू किया है। ज्यादातर मामलो में ये जवान छुट्टी पर अपने घर गए हुए थे। सेना की निरंतर करवाई से हताश हुए आतंकी सॉफ्ट टारगेट ढूंढ़ने और ज्यादा से ज्यादा आतंक फैलाने में लगे हुए है। पुलिस के सिपाही जो छुट्टी पर आये हुए हो और खासतौर से दक्षिणी कश्मीर में रहते हो, उन्हें टारगेट करना आतंकियों के लिए आसान और कम जोखिम भरा लग रहा है।

जिस तरह से आतंकी पुलिस के जवान को अपहरण करके ले जाते है फिर उनसे मारपीट करना, प्रताड़ित करना और उसके बाद हत्या से पहले का वीडियो का रिलीज़ करना ये दिखाता है की आतंकी लोकल कश्मीरी युवा में ज्यादा से ज्यादा भय पैदा करना चाहते है।