सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली एक गांव स्मार्टगांव बन गया है.ये देश का पहला स्मार्टगांव है लेकिन खास बात ये है कि सोनिया के क्षेत्र में ये कमाल पीएम मोदी की वजह से हुआ है.दरअसल पीएम मोदी के भाषण से प्रभावित होकर दो आईटी प्रोफेशनल्स ने एक एप बनाई इसके जरिेए गांवों की व्यवस्था को जोड़ा और इस तरह ये कमाल हुआ.

देश के पहले स्मार्टगांव तौधकापुर में 48 घंटों के भीतर 242 शौचालय बनाए गए जोकि पूरे यूपी और संभवता भारत में एक रिकॉर्ड है.इस गांव में CCTV कैमरे, सड़कों पर रोशनी की व्यवस्था, 18-20 घंटे बिजली की सप्लाई और साथ ही एक वाई-फाई जोन जैसी सुविधाएं हैं.
योगेश साहू और रजनीश बाजपेयी नाम के इंजीनियरों ने एक एप के जरिए इसे संभव किया है.एप के जरिए किसानों को अपने उत्पाद को बेचने के लिए बेचने के लिए मार्केट की व्यवस्था भी की जाती है.साथ ही उन्हें हर तरह की जानकारी यहां उपलब्ध हो जाती है.

दरअसल 2015 में पीएम मोदी अमेरिका गए. उन्होंने सैन जोश सैप सेंटर में बोलते हुए कहा,"भारत में अक्सर लोगों को कहते हुए सुना जाता है कि यहां प्रतिभा के पलायन को रोकने के लिए कुछ किया जाना चाहिए.भारत ने दुनिया को कई नगीने दिए हैं.इस हालत को उल्टा भी किया जा सकता है."
पीएम का भाषण सुनने के बाद वाजपेय़ी ने अपने देश के लिए और खासकर गावों के लिए कुछ करने की ठानी और अपने दोस्त योगेश साहू की मदद से मोबाइल इंटरनेट के जरिए उन्होंने इस काम को अंजाम भी दिया.

हालांकि योगेश और रजनीश को अपने इस काम में रायबरेली के डीएम,सीडीओ और तौधकापुर के ग्राम प्रधान का भी पूरा सहयोग मिला है.तौधकापुर को स्मार्टगांव बनाने के बाद इन दोनों दोस्तों ने छत्तीसगढ़,महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के 6 गावों को भी विकसित करने का बीड़ा उठाया है.