जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान बीते कई हफ्तों से नियंत्रण रेखा पर भारी गोला बारी कर रहा है। राजौरी और पुंछ में बीती रात पाकिस्तानी सेना ने 120 mm के मोटार्र से भारी गोलाबारी की। पाकिस्तान द्वारा की गयी इस गोलीबारी में भारतीय सेना के सूबेदार सुखदेव सिंह नौशेरा सेक्टर में शहीद हो गए।

जवाब में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना के ठिकानों को निशाना बनाया है, जिससे सीमा पार काफी नुकसान होने के खबर आ रही है। सर्दियों की आहट होने और घाटी के सीमावर्ती इलाकों के बर्फ से ढकने से पहले पाकिस्तान सीमापार से ज्यादा से ज्यादा आतंकियों के भारत में घुसाना चाहता है।

इसीलिए बीते कुछ हफ्तों से पकिस्तान लगातार भारी गोलीबारी कर रहा है जिससे उसकी आड़ लेकर पाकिस्तानी आतंकी सीमापार कर कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए घुस सकें। आतंकियों की घुसपैठ विफल होने के बाद पाकिस्तानी सेना ने भारतीय अग्रिम चौकियों के अलावा रिहायशी इलाकों को भी मोटार्र से निशाना बनाया। जिससे नागरिकों को बंकर में छिप कर अपनी जान बचानी पड़ी।

पूरी रात दोनों तरफ से भारी गोलाबारी होती रही। नियंत्रण रेखा के अलावा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर भी पाकिस्तानी रेंजरों ने भारतीय गांव को निशाने में लेकर गोलाबारी की, पर वंहा से किसी भी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

इससे पहले कश्मीर घाटी में सीआरपीएफ के जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह, एक आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। शैलेन्द्र प्रताप उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के रहने वाले थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके परिवार को 50 लाख रूपये, एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी और जिले में एक सड़क उनके नाम पर करने की घोषणा की है।