दिल्ली दंगो के दौरान हिंसा का चेहरा बना मोहम्मद शाहरुख़ को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से गिरफ्तार कर लिया है। शाहरुख़ वही शख्स है जिसने दंगो के दौरान दिल्ली पुलिस के जवान दीपक दहिया पर पिस्तौल तान दी थी और 8 राउंड गोली चलाई थी।

दंगे के दौरान पहले ये खबर आयी की शाहरुख़ को उसी दिन दिल्ली पुलिस ने उसके घर से गिरफ्तार कर लिया है पर बाद में पता लगा की ये व्यक्ति कभी भी पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया था बल्कि परिवार सहित अपने घर से फरार हो गया था।

दंगे के दौरान हाथ में लाठी लिए दीपक दहिया पर पिस्तौल ताने जब शाहरुख़ की फोटो वायरल हुई तो अपने आप को सेक्युलर कहने वाले कई पत्रकारों ने इस व्यक्ति को अनुराग मिश्रा बता कर कपिल मिश्रा का रिश्तेदार तक बता दिया और खबर ये चलायी गयी की कपिल मिश्रा के रिश्तेदार ने पुलिस और पब्लिक पर गोली चलायी।

हालांकि दिल्ली पुलिस ने शुरुआत से कहा की इस व्यक्ति का नाम शाहरुख़ है और ये दिल्ली के उस्मानपुरा का रहने वाला है। शाहरुख़ के पिता शावर पठान का ड्रग माफिया और तस्करो से पुराना सम्बन्ध रहा है और उसका आपराधिक इतिहास भी है। उस्मानपुरा के कुछ लोगों का यह भी कहना है की शावर पठान पहले सरदार हुआ करता था पर मुस्लिम लड़की से शादी के बाद उसने अपना धर्म परिवर्तन करके अपना नाम शावर पठान रख लिया था।

शाहरुख़ को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस की कई टीम उत्तर प्रदेश के कई शहरों में लगातार दबिश दे रही थी। और कल रात एक पुख्ता सूचना के बाद उसे बरेली से गिरफ्तार कर लिया गया और आगे की कार्यवाही के लिए दिल्ली लाया जा रहा है।