चीन से फैला कोरोना वायरस अब दुनिया के 60 देशों तक पहुंच चुका है। भारत में अभी तक बहुत ज्यादा मामले सामने नहीं आये थे पर अब भारत में भी कोरोना वायरस के मामलों में तेजी देखी जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने बताया की अब तक कुल 28 लोगों को इस घातक वायरस से पीड़ित पाया गया है।

इटली से आया 24 यात्रियों के एक दल जिसमे 21 इटली के नागरिक और 3 भारतीय है की जाँच करने पर 15 लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। सभी संक्रमित लोगों को ITBP के द्वारा बनाये गए एकांत वार्ड में मानेसर में रखा गया है।

चीन के बाद दक्षिण कोरिया, इटली और ईरान इस वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देश है। एतिहात के तौर पर भारत सरकार ने ईरान, इटली, दक्षिण कोरिया और जापान के नागरिकों के सभी वीसा को तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया है।

इससे पहले दिल्ली के का शख्स जो की इटली से वियना होते हुए भारत पंहुचा था उसे इस वायरस से संक्रमित पाया गया था। इटली से आने के बाद इस शख्स ने एक पार्टी की और उसके बाद आगरा में रहने वाले 6 अन्य रिश्तेदार भी इस वायरस से संक्रमित हो गए। वायरस से पीड़ित व्यक्ति के बच्चे नोएडा में जिस स्कूल में पढ़ते है उसे बंद कर दिया गया है और स्कूल और बस को रसायनों से वायरस मुक्त किया जा रहा है।

इसके अलावा दुबई से बेंगलुरु पहुंचे व्यक्ति जिसे बाद में वायरस से पीड़ित पाया गया ने बेंगलुरु से हैदराबाद जिस बस में सफर किया था उसके सभी यात्रियों की पहचान हो गयी है और यह व्यक्ति कुल 88 लोगों के संपर्क में आया था जिसके बाद सभी 88 लोगों को 15 दिनों के लिए एकांत में रखा गया है।

पूरी दुनिया में चीन से उपजे इस वायरस ने खौफ और तबाही का माहौल बना रखा है और लगभग 3100 लोग अब तक इससे अपनी जान गँवा चुके है। हालांकि अगर कुछ सावधानियां बरती जाये तो इससे बचा जा सकता है।

* भीड़ भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचे

* सार्वजानिक जगहों पर जाने के बाद हाथ को चेहरे, नाक और आँखों से दूर रखे

* हाथों को थोड़ी थोड़ी देर में साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक रगड़ के धोये

* अगर साबुन उपलब्ध नहीं है तो हैंड सैनिटिज़ेर जिसमे कम से कम 60 प्रतिशत अल्कोहल हो उससे हाथों को साफ़ करें

* बुखार आने पर ढेर सारा पानी और तरल पदार्थ पिए और डॉक्टर को जरूर दिखाए

अभी तक इस वायरस का कोई इलाज़ मौजूद नहीं है हालांकि 5-7 दिनों में शरीर में यह वायरस खुद ही ख़त्म हो जाता है पर ऐसे लोग जिनकी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है उनके लिए यह वायरस काफी घातक साबित हो सकता है।