एक भारतीय परिवार ने उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु से शिकायत करते हुए आरोप लगाया है की ब्रिटिश एयरवेज के कर्मचारियों ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया और रंगभेदी शब्दों का प्रयोग करते हुए गाली गलौज की। अपमानजनक व्यवहार के बाद उन्हें और एक और भारतीय परिवार को जहाज से उतार दिया गया।

भारतीय इंजिनयरिंग सर्विस के जॉइंट सेक्रटरी लेवल के अधिकारी ने अपने पत्र में लिखा की वो अपनी पत्नी और ३ साल के बेटे के साथ लंदन से बर्लिन की ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट में थे। विमान रनवे पर था। तभी अचानक उनका ३ साल का बेटा सीट बेल्ट लगाने की वजह से रोने लगा। उनकी पत्नी उसे चुप करने के कोशिश कर रही थी तभी एक पुरुष क्रू मेंबर आया और बेटे को चिल्लाते हुए उसे उसकी सीट पर बैठने को कहा। इसकी वजह से बच्चा और भी डर गया और लगातार रोने लगा। उनके पीछे वाली सीट पर बैठे एक और भारतीय परिवार बच्चे को चुप करने में उनकी मदद कर रहा था। तभी वही क्रू मेंबर वंहा पर दोबारा आया और रंगभेदी शब्द का प्रयोग करते हुए बच्चे को विमान से बाहर फेंक देने की धमकी देने लगा।

उसके बाद विमान को वापस टर्मिनल पर ला कर अधिकारी के परिवार और उनकी मदद करने वाले परिवार को उतार दिया गया और उनके बोरडिंग पास छीन लिए गए।

ब्रिटिश एयरवेज ने बयान जारी करते हुए कहा की रंगभेद से जुडी शिकायतों को वो बहुत ही गंभीरता से लेते है और मामले की जाँच की जा रही है। दोषी व्यक्ति के खिलाफ सख्त से सख्त करवाई की जाएगी।