ऑनलाइन एप के जरिये तुरंत लोन देने वाली कई कंपनियों के खिलाफ देश भर में अलग अलग राज्यों में केस दर्ज किये जा रहे हैं। पुलिस ये कार्रवाही तेलंगाना के एक व्यक्ति की शिकायत के बाद कर रही हैं, व्यक्ति ने शिकायत में बताया की किस तरह से बेहद ही ऊँचे ब्याज दर पर इस कंपनी ने उसे लोन दिया और फिर उसमे अलग अलग तरह की फीस जोड़ कर उससे पैसे वापस करने के लिए परेशान करने लगे।

तेलंगाना पुलिस ने मामले में कार्रवाही करते हुए पुणे के एक कॉल सेंटर पर छापा मार कर 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार लोगों में एक महिला चीन की नागरिक हैं। महिला ने एक भारतीय व्यक्ति से शादी कर लोन देने की फर्जी कंपनी चला रही थी। गिरफ्तार लोगों में महिला का पति और एक अन्य व्यक्ति हैं जो कंपनी में काम करने के लिए लोगों को भर्ती करता था।

तेलंगाना में इस तरह की कंपनियों के द्वारा लोगों को परेशान किये जाने के बाद 4 आत्महत्या के मामले आ चुके हैं जिसमे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी शामिल हैं। इसके बाद पुलिस और प्रसाशन की नींद खुली और इस तरह की कई कंपनियों के खिलाफ कार्रवाही की जा रही हैं।

पुणे से संचालित कॉल सेंटर में कुल 625 लोग काम कर रहे थे और सभी को कंपनी चलाने वालों ने व्यक्तिगत फ़ोन से लोगों को धमकाने का काम दे रखा था। सभी कर्मचारी लोन लेने वाले व्यक्ति को फ़ोन कर गाली गलौज करते और धमकी आदि देते थे। इसके अलावा फर्जी कोर्ट नोटिस भेज कर भी लोगों को धमकाया जाता था।

कम्पनी पैसे देने से पहले फोटो, व्यक्तिगत जानकारी आदि ग्राहकों से ले लेती थी और उसी आधार पर लोगों को धमकाया जाता था।