राजस्थान में कांग्रेस सरकार पर संकट के बादल छाए हुए हैं. खबरों के मुताबिक डिप्टी सीएम सचिन पायलट करीब 22 विधायकों के साथ दिल्ली में हैं और उन्होंने बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. इसी बीच इस पूरे संकट पर अब तक चुप्पी साधे रहे राहुल गांधी ने बड़ा बयान दिया है. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, "सरकारें आएंगी जाएंगी लेकिन लोकतंत्र अमर रहना चाहिए".

कानपुर कांड मुठभेड़ से कंही ज्यादा है, बन्दूक किसी के कंधे पर निशाना किसी और पर

राहुल गांधी ने पूरे ट्वीट में कुछ इस तरह से लिखा, "देश की अधिकतर राज्यों से पहले ही हमारी सरकार जा चुकी है. राजस्थान के भी हालात कुछ ठीक नहीं हैं, ऐसे में मैं बस इतना कहना चाहूंगा कि सरकारें आएंगी-जाएंगी लेकिन लोकतंत्र अमर रहना चाहिए". राहुल गांधी के इस बयान के अलग-अलग सियासी मायने निकाले जा रहे हैं. राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "राहुल जी के बयान को समझना कभी आसान नहीं होता, वो कई बार ऐसे बयान देते हैं जो सिर्फ़ उनके ही समझ में आते हैं. हम पहले भी राहुल जी का राजनीतिक कौशल देख चुके हैं, ऐसे में उनके बयान को बड़े परिदृश्य में देखने की ज़रूरत है."

वहीं बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए, "राहुल जी के बयान से लगता है कि 'चुनाव तुम्हारा, सरकारी हमारी' अभियान का एक और पड़ाव सफल होने वाला है. पिछले 6 सालों में हमने जहां चुनाव जीते हैं, वहां भी सरकारें बनाईं हैं जहां हारे हैं वहां भी. आदरणीय मोदी जी और अमित शाह के नेतृत्व में 'कांग्रेस युक्त बीजेपी' के अभियान के तहत हमने तमाम, कांग्रेस नेताओं को बीजेपी में शामिल करवाया है. जल्द ही, पायलट साहब भी हमारी पार्टी में शामिल होंगे".