उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के कोंच कस्बे में रहने वाले सेवानिवृत कानूनगो रामबिहारी के घर से गायब हुई एक पेन ड्राइव और कंप्यूटर की हार्डडिस्क ने एक ऐसे अपराध का खुलासा किया है जिसके बारें में आसपास के लोगों ने सोचा भी नहीं होगा। कोंच पुलिस ने रामबिहारी को 200 से ज्यादा बच्चों, महिलाओं, नाबालिग लड़कियों के यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया है।

लेखपाल रहे और सेवानिवृति के समय प्रमोशन पाकर कानूनगो बने रामबिहारी की अबतक की पूरी उम्र कोंच कस्बे में ही बीती। मौजूदा समय में वह बीजेपी के नगर उपाध्यक्ष के तौर पर भी काम कर रहा था। अपराध के खुलासे के बाद जिला बीजेपी ने उसे पार्टी से निकाल दिया है।

पहले अपने नौकरी के जरिये लोगों की मदद के बहाने उन्हें घर बुलाकर उनका यौन उत्पीड़न करना फिर सेवानिवृत होने के बाद नेतागिरी की धौस दिखाकर यौन उत्पीड़न करना, रामबिहारी की दिनचर्या में शामिल हो गया था। उसके शिकार रहे कुछ नाबालिग बच्चों ने बताया की वह घर पर कुछ छोटा मोटा काम करने के बहाने बुलाता था और काम ख़त्म होने के बाद शाबासी देते हुए कुछ खाने पीने के लिए देता था। खाने पीने के आइटम में वह पहले से ही कुछ नशे का पदार्थ मिला देता था जिससे की बच्चे सो जाते थे।

बच्चों से नशे की हालत में दुष्कर्म करने के दौरान ही रामबिहारी उनकी वीडियो बना लेता था और बाद में वही वीडियो दिखा कर वो बच्चों को ब्लैकमेल करता था। पूर्व में शिकार बनाये हुए बच्चों को वह हर दिन उनके पांच दोस्त लाने का टारगेट देता था और मना करने पर उनका वीडियो वायरल करने की धमकी देता था।

कई बच्चों और लड़कियों को उसने पोर्न वीडियो दिखाकर उसकी लत लगा दी थी। पोर्न वीडियो के लत के शिकार हो चुके बच्चे और लड़कियों उससे वीडियो मांगते थे जिसके बदले में वो उनका उत्पीड़न करता था।

जैसा की कहा जाता है की पाप का घड़ा भरने पर अपने आप फूट जाता है रामबिहारी के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। कुछ हफ्ते पहले उसकी हवस का शिकार बन चुके कुछ बच्चों ने उसके घर से एक पेन ड्राइव और एक हार्ड डिस्क गायब कर दी। पेन ड्राइव और हार्ड डिस्क में रामबिहारी के बनाये हुए खुद के तमाम वीडियो थे। बच्चों ने उसे ब्लैकमेल करना शुरू किया तो रामबिहारी ने पुलिस में रिपोर्ट लिखाई की उसके घर से पेन ड्राइव और हार्ड डिस्क गायब के साथ 20000 रूपये गायब हुए है।

Rambihari Rathour, 65 years old, arrested by Konch, Jalaun, Uttar Pradesh Police in case of sexual harassments of more than 200 kids

उसके बाद बच्चों ने उससे 20 लाख की डिमांड की और तमाम तोलमोल के बाद 15 लाख में सौदा तय भी हो गया। पर चोरी करने वाले बच्चों के ग्रुप का एक लड़का सौदेबाजी के लिए तैयार नहीं हुआ जिससे लड़को में मारपीट हो गयी। मारपीट का वीडियो किसी व्यक्ति ने बना कर सोशल मीडिया पर अपलोड किया।

मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने बच्चों को पूछताछ के लिए बुलाया। पूछताछ के लिए बुलाये गए लड़को को लगा की पुलिस ने उन्हें हार्ड डिस्क और पेन ड्राइव के चोरी के आरोप में पकड़ा है और उन्होंने अपने साथ हुए दुष्कर्म से लेकर ब्लैकमेलिंग तक का राज खोल दिया।

वीडियो देखने के बाद पुलिस ने 65 वर्षीय रामबिहारी को गिरफ्तार कर लिया है, पुलिस को शक है की रामबिहारी ने 200 से ज्यादा लोगों के साथ दुष्कर्म किया है। 6 महीने पहले उसकी बीवी के मृत्यु के बाद वह हर दिन 5-6 नाबालिग लड़के लड़कियों को अपने घर ले जाता था और किसी भी पडोसी को अपने घर नहीं आने देता था।

रामबिहारी के द्वारा किये गए इन अपराधों को पहले रोका जा सकता था। 2005 में पहली बार एक महिला ने उस पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था पर घर वालों के दवाब में आपसी सुलह समझौते से पुलिस ने मामला रफा दफा कर दिया था। मनोचिकित्सक ने रामबिहारी की जाँच कर उसे हार्ड कोर अपराधी बताया है और उनका कहना है की वह विशुद्ध आपराधिक प्रवत्ति का व्यक्ति है। पुलिस को उसके परिवार के बैकग्राउंड की जाँच करनी चाहिए। मनोचिकित्सक के अनुसार बचपन में अवश्य ही रामबिहारी के साथ उसके परिवार के किसी व्यक्ति ने दुष्कर्म किया होगा। साथ ही ऐसा भी संभव है की उसके परिवार में कुछ और व्यक्ति भी इसी तरह की प्रवत्ति के हो। फिलहाल पुलिस मामले की जाँच में जुटी है और संगीन धाराओं में मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है।

(यह लेख निशांत त्रिवेदी द्वारा लिखा गया है)