ग्लोबल पीस इंडेक्स की सूची में भारत को 163 देशों की सूची में 137वां स्थान मिला है. ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक द्वारा तैयार इस लिस्ट में आइसलैंड को विश्व का सबसे शांत देश बताया गया है.भारत ने इस सूची में पिछले साल की अपेक्षा इस साल 4 स्थानों का सुधार किया और 141वें स्थान से उठकर 137वें स्थान पर आ गया है.इंडेक्स में सीरिया को सबसे अशांत देश बताया गया है और 163वें पायदान पर रखा गया है.

आइसलैंड इस सूची में 2008 से ही शीर्ष पर बना हुआ है और न्यूजीलैंड,पुर्तगाल,ऑस्ट्रिया और डेनमार्क सूची में शामिल अन्य टॉप देश हैं.वहीं सीरिया बीते 5 सालों से लगातार दुनिया का सबसे अशांत देश बना हुआ है और अफगानिस्तान,सोमालिया,सूडान भी दुनिया के सबसे अशांत देशों में शामिल हैं.

सूची में भारत का स्थान सुधरने की वजह है कि बीते साल कि अपेक्षा यहां हिंसक अपराधों में कमी आई है.हालांकि सीमा पर पाकिस्तान से तनाव की वजह से मौतों में इजाफा भी हुआ है. हालांकि सूची यह भी कहती है कि भारत दुनिया के उन देशों में शामिल हैं जिनमें बीते साल की अपेक्षा मौतों में कमी आई है.श्रीलंका,चाड,कोलंबिया और युगांडा भी इन देशों में शामिल है.वहीं सीरिया,मैक्सिको,अफगानिस्तान,यमन,ईराक वो देश हैं जिनमें मरने वाले लोगों की संख्या में इजाफा हुआ है.

पीस इंडेक्स का अध्ययन करने पर पता चलता है कि दुनिया भर के देश शांति की तमाम बातें करने के बावजूद हिंसा पैदा करने में ज्यादा संसाधन लगाते हैं बजाय शांति को बढ़ावा देने के. रिपोर्ट के अनुसार उन देशों का अपने पड़ोसियों के साथ तनाव बढ़ा है जिन्होंने बीते 30 सालों में हथियारों की दुनिया में विकास किया है.भारत,पाकिस्तान,साउथ कोरिया,सीरिया,ईरान और मिस्र ऐसे ही देशों में शामिल हैं.

अगर पीस इंडेक्स का पूरा परिणाम देखें तो पता चलता है कि दुनिया में शांति के स्तर में 0.27 फीसदी की कमी आई है और ये गिरावट लगातार चौथे साल दर्ज की गई है.92 देश ऐसे हैं जिनमें शांति के स्तर में कमी आई है वहीं 71 देश वो हैं जिनमें हालत में सुधार हुआ है.