संयुक्त राष्ट्र महासभा के अपने भाषण में सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को जमकर खरी खोटी सुनाई.सुषमा ने न केवल पाकिस्तान बल्कि संयुक्त राष्ट्र को भी नसीहत दी.अपने संबोधन में सुषमा ने आतंकवाद के अतिरिक्त जलवायु परिवर्तन को भी दुनिया के लिए बड़ा खतरा बताया.विदेश मंत्री ने अपने भाषण में कहा की 9/11 हमले का मास्टरमाइंड मारा जा चुका है लेकिन 26/11 हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद अभी भी खुला घूम रहा है और भारत को धमकी दे रहा है.सुषमा ने अपने संबोधन में कहा की पाकिस्तान एक ऐसा देश है जो न केवल आतंकवाद फैलाता है बल्कि अपने किए को नकारने में भी उसे महारत हासिल है.

सुषमा ने कहा की पहले की सरकारों की तरह इस बार भी भारत ने बातचीत की पहल की.सार्क देशों के प्रमुखों को शपथ ग्रहण में भारत भी बुलाया था. मैं खुद इस्लामाबाद भी गई लेकिन इसके तुरंत बाद पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमला हो गया.सुषमा ने कहा की भारत हमेशा बातचीत से विवाद सुलझाने का पैरोकार रहा है लेकिन पाकिस्तान हमेशा धोखा देता है.इमरान खान के बातचीत के प्रस्ताव पर भी भारत का पक्ष रखते हुए सुषमा ने कहा की भारत ने वार्ता के लिए हामी भर दी थी लेकिन इसी बीच भारत के 3 सैनिकों का अपहरण करके भारत ने एक सैनिक की हत्या कर दी.

सुषमा स्वराज ने अपने संबोधन में संयुक्त राष्ट्र को भी बदलने की नसीहत दी.सुषमा ने कहा की जरूरी है की संयुक्त राष्ट्र वक्त के साथ खुद में बदलाव करे अन्यथा ये अपनी गरिमा खो देगा.सुषमा ने संयुक्त राष्ट्र को सलाह दी की वो आतंकवाद की परिभाषा जल्द तय करें.सुषमा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की बात भी रखी.हिंदी में दिए गए अपने भाषण में सुषमा ने इंडोनेशिया में आए भूकंप और सुनामी पर दुख जताया साथ पूरी मदद का आश्वासन भी दिया.