National

आगरा: सीवर के लिए खोदे गए गड्ढे में गिरे बच्चे को बचाने गए 4 लोगों और बच्चे की जहरीली गैस से मौत

Wed, 03/17/2021 - 02:01

उत्तर प्रदेश में आगरा के फतेहाबाद इलाके में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक में 10 वर्षीय बालक के गिरने के बाद उसे बचाने उतरे 4 अन्य लोगों सहित कुल 5 लोग की मौत हो गयी।

जानकारी के अनुसार घर में पुराने सेप्टिक टैंक के भर जाने के बाद उससे 3 फ़ीट की दूरी पर नये टैंक का निर्माण करने के लिए गड्ढा खोदा गया था। पुराने भरे हुए टैंक से धीमे धीमे पानी रिस कर नये खोदे गए गड्ढे में भर गया। गड्ढा में लगभग 4 फ़ीट पानी जमा हो गया था और उसे ढका नहीं गया था।

0 comments

जम्मू कश्मीर के शोपियां में जैश का टॉप कमांडर मुठभेड़ में मारा गया, तीन दिनों से घेराबंदी जारी थी

Tue, 03/16/2021 - 02:57

दक्षिणी कश्मीर के शोपियन में तीन दिन से जारी मुठभेड़ कल समाप्त हो गयी। मुठभेड़ में भारतीय सेना 2 आतंकी मार गिराए। मारे गए आतंकियों में से एक जैश ए मोहम्मद का कमांडर विलायत हुसैन लोन उर्फ़ सज्जाद अफगानी है।

सज्जाद अफगानी आतंकी गतिविधियों के साथ कश्मीर में कई नाबालिग लड़कियों के बलात्कार के अपराध में भी शामिल था। ऐसे तमाम अपराधों में जम्मू कश्मीर पुलिस को उसकी तलाश थी।

0 comments

खबरों को अपने एजेंडा के हिसाब से तोड़ मोड़ कर चलाने वाले मीडिया संस्थानों से सुप्रीम कोर्ट तक सुरक्षित नहीं

Fri, 03/12/2021 - 01:55

बीते कुछ सालों में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय काफी चर्चा में रहे हैं. चर्चा में कहना शायद काफी नहीं होगा बल्कि नकारात्मक चर्चा में रहे हैं, शायद यह पूर्ण हों. हालांकि, यह निर्णय पक्षानुसार पसंद किए जाते रहे हैं, ऐसे में सुप्रीम कोर्ट के फैसलों को ऐतिहासिक या बकवास अपने अपने पक्ष के मुताबिक बताया जाता है. जब तक सुप्रीम कोर्ट के फैसले केंद्र सरकार के खिलाफ आते रहे, एक विचारधारा के लोग उन्हें ऐतिहासिक बताते रहे. उत्तराखंड में सरकार गठन के मुद्दे पर फैसला हो या NJAC पर केंद्र सरकार को झटका, यहां तक कि रंजन गोगोई समेत 4 जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस तक को ऐतिहासिक बताया गया.

0 comments

नारीवाद के इस दौर में महिला सशक्तिकरण जमीन पर सफलता से मीलों दूर

Mon, 03/08/2021 - 19:47

कल 8 मार्च यानि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का दिन था. इस मौके पर महिलाओं के बारे में तमाम बातें लिखीं गईं. पूरे दिन को अलग तरीके से सेलिब्रेट किया गया, लेकिन ऐसा लगा कि इस दिन को सिर्फ़ उपलब्धियों के दायरे में देखा गया. महिलाएं कितनी मजबूत हैं और वो कितना आगे बढ़ चुकी हैं. इस पर बातें हुईं और लिखी गईं लेकिन महिलाओं के सामने क्या क्या चुनौतियां हैं, इस पर बहुत ज्यादा फोकस नहीं दिखा. आज के समय में भी महिलाओं के सामने तमाम चुनौतियां हैं. उन्हें पुरुषों के समान तमाम अधिकार मिले हैं, तो आज भी बहुत सी महिलाएं को बेसिक अधिकार भी नहीं मिले हैं.

0 comments

बंगाल चुनाव: भगदड़ का ऐसा दौर है ग़ालिब की आज ये भागा कल वो भागा

Thu, 03/04/2021 - 02:59

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए

मशहूर शायर वसीम बरेलवी ने का शेर इन दिनों भारतीय राजनीति पर एकदम सटीक बैठता है.भारत को विविधताओं का देश कहा जाता है.इसकी वजह है की भारत में कई मौसम और ऋतुएं होती हैं,लेकिन इन सबके बीच हम सबसे अहम मौसम को भूल जाते हैं. ये मौसम है चुनाव का मौसम. इस मौसम को भारतीय राजनीति में ब्रेकअप और तलाक का दौर तेज हो जाता है. बीते 5 सालों से जारी तमाम विवाहेत्तर संबंध इस दौरान अपने रिश्ते को नया नाम देने का ऐलान कर देते हैं.

0 comments

आम जनता और नेता के बीच मौजूद टेबल जितनी खाई 70 साल की आज़ादी भी दूर नहीं कर पायी

Sat, 02/27/2021 - 01:27

एक शानदार टेबल है, जिस पर बिसलरी की पानी की बोतल रखी है, काजु कतली रखी है, और भी खाने पीने का कुछ आइटम सजा रखा है जो समझ नहीं आ रहा है. एक बढ़िया सोफेनुमा कुर्सी पर बैठे यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव नजर आ रहे हैं. दरअसल ये टेबल के एक साइड का दृश्य था. टेबल की दूसरी साइड कुछ साधारण से पहनावे वाली औरतें दिख रहीं हैं जो सभी जमान पर बैठी हैं, जो बेहद दुखी नजर आ रही हैं और उम्मीदभरी नजरों से अखिलेश यादव को देख रही हैं. इस दृश्य को आम समझना या सिर्फ अखिलेश यादव से जोड़कर देखना गलत होगा. दरअसल देश के अधिकतर राजनेताओं की सच्चाई यही है.

0 comments

द वायर: खुद को कॉर्पोरेट मुक्त कहने वाले मीडिया हाउस की हकीकत क्या है?

Sun, 02/21/2021 - 23:44

बीते दिनों में निष्पक्ष पत्रकारिता और सत्ता के विरोध की पत्रकारिता का दावा करने वाले कई मीडिया हाउस खुले. इनमें से अधिकतर न्यूज वेबसाइट हैं. कुछ यूट्यूब चैनल भी हैं. कुल मिलाकर इनमें से एक भी अखबार या टीवी चैनल नहीं हैं. इसकी एक बड़ी वजह है कि अखबार या न्यूज चैनल को चलाने के लिए बड़े बजट की ज़रूरत होती है. यह बजट आपको तब ही मिल सकता है जब आप किसी कॉर्पोरेट हाउस से जुड़ें. कॉर्पोरेट के फंड देने की अपनी शर्तें होती हैं. कई बार किसी चैनल या अखबार के जरिए मुनाफा कमाना या उसकी आड़ में अपने बाकी व्यवसायिक हितों को साधना.

0 comments

गलवान घाटी संघर्ष के वीडियो के बाद बिहार रेजिमेंट के इस युवा कैप्टन और सैनिकों की बहादुरी की चर्चा

Sat, 02/20/2021 - 20:08

बीते दिनों चीन ने पहली बार ये माना की उसके 5 सैनिक गलवान घाटी में भारत के साथ हुए संघर्ष में मारे गए थे। इससे पहले कभी भी उसने अपने सैनिक मारे जाने की बात स्वीकार नहीं की। हालांकि भारतीय सेना ने अपने बयान में चीन के 45 सैनिक मारे जाने की बात शुरुआत से ही बताई थी पर चीन इसे नकारता रहा।

लद्दाख की गलवान घाटी में हुए संघर्ष में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे जबकि चीन के 45 सैनिक मारे गए थे। हाल ही में चीन ने गलवान घाटी में मारे गए सैनिकों में से 5 को मेडल दिए थे। साथ ही उसने लड़ाई की कुछ फुटेज का वीडियो भी सोशल मीडिया पर जारी किया था।

0 comments

कश्मीर में अलग अलग स्थानों पर जारी मुठभेड़ में पुलिस का जवान शहीद, एक घायल

Thu, 02/18/2021 - 22:33

कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच अलग अलग स्थानों पर मुठभेड़ जारी है। मध्य कश्मीर के बडगाम और दक्षिणी कश्मीर के शोपियां में रुक रुक कर गोलीबारी जा रही है। बडगाम में जारी मुठभेड़ में जम्मू कश्मीर पुलिस का एक स्पेशल पुलिस अफसर शहीद हो गया और एक अन्य गंभीर रूप से घायल है।

सुरक्षाबलों के अनुसार एक मकान में 2-3 आतंकी छिपे हुए है जो रुक रुक कर गोलीबारी कर रहे है। कल रात से जारी मुठभेड़ के दौरान सुबह सुबह जम्मू कश्मीर पुलिस कर्मी अल्ताफ अहमद शहीद हो गए और अन्य कर्मी मंजूर अहमद गंभीर रूप से घायल हो गए।

0 comments

उत्तर प्रदेश: उन्नाव में तीन लड़कियां बेहोशी की हालत में खेत में मिली, दो की मौत एक की हालत गंभीर

Wed, 02/17/2021 - 23:54

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के असोहा थाने के बबुरहा इलाके में 3 लड़कियां बेहोशी की हालत में पायी गयी। तीनों लड़कियों के मुँह से झाग निकल रहा था और उनके हाथ पैर बंधे हुए पाए गए। ग्रामीणों द्वारा पुलिस को सूचना देने पर जब पुलिस उन्हें हॉस्पिटल लेकर पहुंची तो डॉक्टरों ने दो लड़कियों को मृत घोषित कर दिया। तीसरी लड़की को गंभीर हालत में कानपुर के रीजेंसी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है।

0 comments

बेहद मजबूत संगठन वाली बीजेपी का मुकाबला क्या सिर्फ सोशल मीडिया पर हैशटैग चला कर किया जा सकता है!

Tue, 02/16/2021 - 02:31

सोशल मीडिया के उदय के साथ ही देश-विदेश की राजनीति में एक बड़ा बदलाव देखने को मिला है. अरब या जैस्मीन क्रांति के बाद, कई अरब देशों मेंसत्ता परिवर्तन हुए. जैस्मीन क्रांति के पीछे सोशल मीडिया की एक बड़ी ताकत रही है. मिस्र में 2010 में एक बड़ी क्रांति हुई थी जिसकी शुरूआत तहरीर चौक से हुई. इसके बाद, तत्कालीन राष्ट्रपति और तानाशाह हुस्नी मुबारक को अपना पद छोड़ना पड़ा था.

0 comments

अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर ट्विटर की तानाशाही के बाद देसी एप कू की लोकप्रियता बढ़ी

Thu, 02/11/2021 - 23:09

बीते दिनों वाट्स ऐप ने अपनी प्राइवेट पॉलिसी लॉन्च की. इसमें यूजर्स के तमाम डेटा को ऐक्सेस करने की बात हो रही थी. वाट्स ऐप ने साथ तौर पर लिखा था कि आप इसे स्वीकार करिए, वर्ना एक निश्चित डेट के बाद वाट्स ऐप उनके फोन पर काम करना बंद कर देगा. वाट्स ऐप की इस नई पॉलिसी की खासी आलोचना हुई. सीधे शब्दों में कहें, तो भारतीयों ने इसे दिल पर ले लिया और तमाम लोगों ने वाट्स ऐप के बजाय टेलीग्राम का रुख करना शुरू कर दिया.

0 comments

दुनिया के तमाम देशों को वैक्सीन उपलब्ध करा संकटमोचक की भूमिका में भारत

Thu, 02/11/2021 - 00:05

भारत द्वारा कैरीबियाई देश डोमिनिका को भेजी गयी कोरोना वैक्सीन की खेप पहुंचने के बाद वंहा के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट स्केरिट ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत सरकार की खूब प्रशंसा की है।

डोमिनिका के प्रधानमंत्री खुद एयरपोर्ट पर भारत द्वारा भेजी गयी वैक्सीन की खेप को रिसीव करने पहुंचे। उसके बाद एक सम्बोधन में भारत और प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया करते हुए उन्होंने कहा की उन्हें उम्मीद नहीं थी की 72000 की आबादी के इस छोटे से देश को प्रधानमंत्री मोदी इतनी जल्दी मदद करेंगे। जिस तेजी के साथ भारत ने डोमिनिका की मदद की है वह बेहद ही सराहनीय है।

0 comments

विदेशी दुष्प्रचार को सही और सचिन तेंदुलकर को स्पाइन लेस बताने वाले गलती कर गए

Fri, 02/05/2021 - 19:25

आखिरकार काफी दिनों की मशक्कत के बाद भारत के कथित किसान आंदोलन को दुनिया के पटल पर ले जाने में एक लॉबी कामयाब हो गई. पॉप स्टार रिहाना से इसकी शुरुआत हुई. इसके बाद जन्मजात प्रकृति पुत्री ग्रेटा थेनबर्ग और हॉलीवुड की एक्ट्रेस अमांडा और पूर्व पॉर्न स्टार मिया खलीफा ने भी ट्वीट कर भारत के किसानों के साथ खड़े होने की बात कही. इनके ट्वीट के बाद अक्षय कुमार, अजय देवगन और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भारत की संप्रुभता की बात कहते हुए, किसान आंदोलन पर बाहरी दखल से नाराजगी जताई.

0 comments

झूठ और अराजकता के ताने बाने पर बने आंदोलन क्या वाकई मोदी सरकार की राह कठिन कर पाएँगे

Wed, 02/03/2021 - 13:42

देश में पिछले कुछ सालों से लगातार क्रांति का दौर रहा है. सीधे शब्दों में कहें, तो 2014 के बाद से ही. वैसे क्रांति का दौर अन्ना आंदोलन और निर्भया आंदोलन के समय में भी चला, लेकिन वो क्रांतिया जनता से सीधे तौर पर जुड़ी हुई थीं. नतीजा यह हुआ कि दोनों आंदोलन तात्कालिक तौर पर सफल हुए और सत्ता के बदलाव में भी इनकी भूमिका रही. यही वजह है कि आज के समय में अन्ना आंदोलन को लोग संघ की साजिश बताते हैं. इनमें कांग्रेस और कांग्रेस प्रेमी तमाम बुद्धिजीवी और आंदोलन में शामिल रहे वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण तक शामिल हैं.

0 comments

Pages