भारत में 2016 में हर एक लाख लोगों में से 195 लोगों की जान वायु प्रदूषण की वजह से चली गई. हेल्थ इफेक्ट इंस्टिट्यूट ऑफ ग्लोबल एयर की रिपोर्ट में ये बात सामने आई है. भारत इस मामले में अफगानिस्तान, पाकिस्तान और नाइजीरिया जैसे देशों के लगभग बराबर में खड़ा है. हालांकि एक और पड़ोसी चीन का रिकॉर्ड भी इस मामले में खराब है. रूस की हालत भारत से तो बेहतर है लेकिन एक महाशक्ति के तौर पर उसकी हालत भी खराब ही मानी जाएगी.

हेल्थ इंस्टिट्यूट के मुताबिक अफगानिस्तान में हर 1 लाख लोगों में 406 लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से 2016 में हुई. अफगानिस्तान लंबे समय से युद्ध और आतंकवाद से प्रभावित है और यहां तमाम तरह की सुविधाओं की खासी कमी रही है. ऐसे में स्वास्थ्य सेवाओं की हालत भी खराब ही है. अफगानिस्तान के बाद एक और पड़ोसी देश पाकिस्तान का नंबर आता है. यहां 207 लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से हुई. पाकिस्तान भी आतंकवाद से प्रभावित और आतंकवाद को फैलाने वाला देश है. ये कट्टरपंथी भी है. ऐसे में यहां भी पर्यावरण सुधारों पर ज्यादा बात नहीं होती और नतीजा है कि लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है.

इनके बाद हमारे देश भारत का नंबर आता है. यहां 195 लोगों की जान 2016 में वायु प्रदूषण की वजह गई. हमारा देश में पर्यावरण पर बात तो होती है लेकिन वो सिर्फ सेमिनार और सरकारी ऑफिसों की फाइलों तक सीमित है. जमीन पर इसके लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे. नतीजा दुनिया की सबसे तेजी से विकास करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में शामिल हमारे देश में 195 लोग वायु प्रदूषण की वजह से जान गंवा बैठे. भारत के बाद नाइजीरिया का नंबर आता है. यहां 150 लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से हुई. ये देश भी आतंकवाद से बुरी तरह प्रभावित है. बोको हराम नाम के आतंकी संगठन ने यहां लोगों की जिंदगी हराम कर दी है. उनके लिए इससे निपटना पहली चुनौती है.

नाइजीरिया के बाद चीन इस सूची में पांचवे नंबर पर है. यहां 1 लाख लोगों में से 117 लोगों की मौत वायु प्रदूषण से हुई. हालांकि चीन में लगातार पर्यावरण सुधार को लेकर कदम भी उठाए जा रहे हैं. सऊदी अरब सूची में 6वें नंबर पर है. यहां 95 लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से हुई. रूस सूची में 7वें नंबर पर है. यहां 62 लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से मारे गए. रूस के बाद जर्मनी (22), इंग्लैंड (21), अमेरिका (21), जापान (13) और कनाडा (12) जैसे देश सूची में शामिल हैं.