एक के बाद एक चार मर्डर, कुछ अजीब सा बर्ताव करने वाले लोग और एक ईमानदार पुलिस इंस्पेक्टर. किसी संस्पेंस थ्रिलर फिल्म के लिए पर्याप्त मसाला है. बीते हफ्ते OTT पर तीन फिल्में रिलीज हुईं . इनमें से एक है नवाजुद्दीन सिद्दीकी और राधिका आप्टे की फिल्म 'रात अकेली है'.

फिल्म की कहानी एक 'हवेली' के इर्द गिर्द बुनी गई है. हवेली के मालिक रघुवीर सिंह का उनकी शादी की रात ही कत्ल हो जाता है. इस हत्याकांड की जांच करने जाते हैं पुलिस इंस्पेक्टर जटिल यादव यानि नवाजुद्दीन सिद्दीकी. रघुवीर सिंह का किरदार एक अय्याश शख्स का दिखाया गया है जो लड़कियां खरीदता है. इन्हीं में से एक लड़की (राधिका आप्टे) से शादी कर लेता है. एक सस्पेंस थ्रिलर की खासियत यही है कि दर्शक अंत तक खुद का दिमाग लगाता रहे कि आखिर हत्यारा कौन है? 'रात अकेली है' ऐसी ही फिल्म है, एक वक्त के बाद शक की सुई किसी नए शख्स की तरफ घूम जाती है. जटिल यादव केस की जांच करता है और नए-नए राज खुलने लगते हैं और आखिर में एक बेहद चौंकाने वाला खुलासा होता है. कहा जाता है कि बड़ी हवेलियों में बड़े राज छिपे होते हैं, ये फिल्म इस बात को सार्थक करती है. फिल्म की कहानी आपको आखिर तक बांधे रखने में कामयाब है.

जब कहानी अच्छी हो, तो हर किरदार को उभरकर आने का मौका मिलता है. 'रात अकेली है' में हर किरदार को उभरने का पूरा मौका दिया गया है. नवाजुद्दीन सदाबहार एक्टर हैं, हर किरदार में जीवंत नजर आते हैं. 'कहानी' के बाद वो पहली बार पुलिस वाले की भूमिका में हैं और जंच रहे हैं. फिल्म की नायिका राधिका आप्टे ने भी एक 'त्रस्त' महिला की भूमिका बखूबी अदा की है. सीआईडी के अभिजीत यानि आदित्य श्रीवास्तव यहां विधायक मुन्ना राजा के किरदार में नजर आए हैं. तिग्मांशु धूलिया ने भी सीमित रोल में अच्छा अभिनय है. नवाजुद्दीन के किरदार जटिल यादव और उसकी मां के बीच संवाद, फिल्म में गंभीरता के बीच थोड़ा हास्य पैदा करता है जो फिल्म की एक बड़ी ज़रूरत है. नवाज की मां के किरदार में इला अरुण शानदार हैं.
श्वेता त्रिपाठी यहां रघुवीर सिंह की बेटी के किरदार में हैं और एक अय्याश पिता की बेटी के दर्द को उनके अभिनय में साफ नजर आया है. निर्देशक के तौर पर हनी त्रेहन की ये पहली फिल्म थी और उनके लिए ये शानदार शुरुआत है.

फिल्म की कहानी शानदार है, आप इसमें खो जाते हैं इसलिए शायद आप बैकग्राउंड म्यूजिक को महसूस न कर पाएं. यही फिल्म की सकारात्मकता भी है और नकारात्मकता भी. कुल मिलाकर अगर आप हिंदी सिनेमा में एक बेहतरीन सस्पेंस थ्रिलर के इंतजार में थे, तो ये फिल्म आपकी उम्मीदों पर खरा उतरेगी.

कलाकारः नवाजुद्दीन सिद्दीकी, राधिका आप्टे, श्वेता त्रिपाठी, तिग्मांशु धूलिया , इला अरुण, और आदित्य श्रीवास्तव,
निर्देशक- हनी त्रेहन
रेटिंग- 4 स्टार