योग गुरु बाबा रामदेव की उत्तर प्रदेश में मेगा फूड पार्क बनाने की उम्मीदों को करारा झटका लगा है. दरअसल उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने रामदेव की इस योजना को अनुमति देने से इंकार कर दिया है. खास बात ये है कि केंद्र की मोदी सरकार इस फूड पार्क को अनुमति दे चुकी थी.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक योगी सरकार ने ग्रेटर नोएडा में प्रस्तावित बाबा रामदेव के मेगा फूड पार्क को बनाने की अनुमति नहीं दी है.

सरकार के इस फैसले से पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ बालकृष्ण बुरी तरह नाराज दिखे और ट्वीटर पर उन्होंने अपनी नाराजगी जाहिर की. बालकृष्ण ने अपने ट्वीट में लिखा 'आज ग्रेटर नोएडा में केन्द्रीय सरकार से स्वीकृत मेगा फूड पार्क को निरस्त करने की सूचना मिली. श्रीराम व कृष्ण की पवित्र भूमि के किसानों के जीवन में समृद्धि लाने का संकल्प प्रांतीय सरकार की उदासीनता के चलते अधूरा ही रह गया #पतंजलि ने प्रोजेक्ट को अन्यत्र शिफ्ट करने का निर्णय लिया"

बालकृष्ण ने फूड पार्क की योजना का स्ट्रक्चर भी सामने रखते हुए लिखा,"यह था पतंजलि फ़ूडपार्क Noida के प्रस्तावित विशाल संस्थान का स्वरूप, जिससे मिलता हज़ारों लोगों को रोज़गार तथा जिससे प्राप्त होता लाखों किसानों को समृद्धशाली जीवन."

आपको बता दें कि इस फूड पार्क आधारशिला पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल में नवंबर 2016 में रखी गई थी और 455 एकड़ जमीन योजना के लिए आवंटित की गई थी.पतंजलि आयुर्वेद के हरिद्वार फूड पार्क के बाद ये सबसे बड़ा फूड पार्क बनता जिससे करीब 8 हजार लोगों को सीधे रोजगार मिलता.