चुनाव के बाद, सत्ता प्राप्ति के लिए बनाये गए गठबंधन पर रोक लगा देनी चाहिए?

Nishant Trivedi's picture
Nishant Trivedi Fri, 05/18/2018 - 02:07 Karnataka, Congress, BJP. Yeddyurappa, cONGRESS IN Supreme Court

कर्नाटक में जिस तरह का राजनैतिक घमासान चल रहा है उसके बारे में शायद ही किसी ने कल्पना की हो। सत्ता पाने के लिए जो संघर्ष चल रहा है वो किसी भी तरह से भारतीय जनतंत्र को मजबूत नहीं करता। येद्दुरप्पा के शपथ ग्रहण के ठीक पहले जिस तरह से रात में नाटकीय तरह से उच्चतम न्यायलय में सुनवाई हुई, क्या उसी तरह से किसी आम इंसान के लिए न्यायलय के दरवाजे खुलेंगे। जिस देश में एक आम आदमी को न्याय पाने के लिए अपनी पूरी उम्र वकील और अदालतों के चक्कर लगाने पड़ते हो उसी देश में जज रात २ बजे इस बात के सुनवाई करते है की शपथ ग्रहण पर रोक लगायी जाये या नहीं वो भी तब जब की उसकी एक संवैधानिक व्यवस्था है। अगर येद्दुरप्पा सरकार अपना बहुमत साबित नहीं कर पाती तो अपने आप ही कांग्रेस और जद(से) को मौका मिलता।
भविष्य में इलेक्शन के बाद बनाये जाने वाले किसी भी तरह के गठबंधन जिससे सत्ता की प्राप्ति होती हो उस पर रोक लगा देने चाहिए। क्यों की जब आप चुनाव में अकेले जाते है तब जनता आप को वोट उस आधार पर देती है। उदहारण के लिए कर्नाटक में जब चुनाव हुआ तब जनता ने कांग्रेस, बीजेपी और जद (से) को अलग अलग वोट किया पर रिजल्ट भी पूरी तरह से नहीं आये उससे पहले कांग्रेस ने जद (से) को अपना समर्थन दे दिया। क्या इसे जनता के साथ किया हुआ धोखा न माना जाये?
अगर कोई ये तर्क दे की पहले भी इसतरह के गठबंधन होते रहे है तब भी इस मामले को अलग तरह से देखा जा सकता है। अगर बीजेपी जो की सिंगल लार्जेस्ट पार्टी है वो अपना बहुमत सदन में साबित नहीं कर पाती और राज्य राष्ट्रपति शासन की तरफ बढ़ जाता, ऐसे परिस्थिति में कांग्रेस ये तर्क दे सकती थी की राज्य को चुनाव से बचाने के लिए वो समर्थन दे रही है पर परिणाम में अपने को सत्ता से दूर जाता देख ही समर्थन की घोषणा करना, लोकतंत्र के लिए इससे बुरा कुछ नहीं हो सकता।
सिर्फ सत्ता प्राप्ति के लिए बनाये गए गठबंधनों से आम जनता का भला नहीं हो सकता और हमारे सामने कई ऐसे उदहारण भी मौजूद है जिनमे ऐसे सरकार ज्यादा समय तक चला पाना भी संभव नहीं रहा है।
पार्टियों को अगर लगता है तो वो चुनाव पूर्व अपना गठबंधन करे और अपना साझा प्रोग्राम जनता के सामने रखे अगर जनता को वो ये विश्वास में ले पाते है तो कोई कारण नहीं है की उन्हें जनता वोट न करे।
पर सत्ता प्राप्ति के लिए इस तरह के खेल खेलना बंद करे।

up
33 users have voted.

Post new comment

Filtered HTML

  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <blockquote> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Allowed pseudo tags: [tweet:id] [image:fid]
  • Lines and paragraphs break automatically.

Plain text

  • No HTML tags allowed.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Lines and paragraphs break automatically.
CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.